छत्तीसगढ़

बिलासपुर: युवक की हत्या कर रेलवे ट्रैक पर फेंकी लाश, गले पर कसा हुआ था फंदा, पास में खून लगे पत्थर भी मिले

राजू वर्मा मुंगेली में जूते-चप्पल की दुकान चलाता था। - Dainik Bhaskar

बिलासपुर। दगौरी रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पर एक युवक की लाश मिली है। शव के ट्रेन से कटने जैसी स्थिति नहीं और सिर में कई जगह पर गंभीर चोट के निशान मिले है। वहीं मृतक के गले पर फंदा लपेटा हुआ था। इसके अलावा पुलिस को मौके से खून लगा पत्थर मिला है। जिसकी वजह से जीआरपी युवक के हत्या की आशंका जता रही है। बताया गया कि युवक के छोटे भाई ने शुक्रवार रात को जब उसे फोन भी किया था। तब उसने बताया था कि वह दोस्त के साथ है। ऐसे में पुलिस अब उसके दोस्तों की भी जानकारी जुटा रही है।

शनिवार की सुबह जीआरपी थाना प्रभारी जीआर राठिया को सूचना मिली कि दगौरी स्टेशन से कुछ दूर में रेलवे ट्रैक पर युवक की लाश पड़ी है। खबर मिलते ही टीम मौके पर पहुंच गई। शव को देखकर ही पहली नजर में हत्या की आशंका जताई गई। दरअसल, जिस पटरी पर शव को मिला, उस ट्रैक से कोई गाड़ी ही नहीं गुजरी थी। शव की जांच करने पर पता चला कि युवक के सिर में कई जगह गंभीर चोंटों के निशान हैं। पुलिस ने आसपास के ग्रामीणों से पूछताछ की और युवक की पहचान करने की कोशिश की। तब कुछ ग्रामीणों ने युवक की पहचान मुंगेली जिले के सरगांव क्षेत्र के मोहभट्‌ठा निवासी राजू उर्फ विभीषण वर्मा (30 साल) के रूप में की। इस बीच पुलिस ने उसके परिजन को सूचना दी।

पूछताछ में पता चला कि राजू गांव में जूता-चप्पल की दुकान चलाता था। उसका भाई हेमंत वर्मा की भी कपड़े की दुकान है। पुलिस को आशंका है कि घटना शुक्रवार की देर रात की है। मामले में पुलिस अभी ज्यादा जानकारी नहीं जुटा पाई है। माना जा रहा है कि युवक की हत्या कर हादसा का रूप देने के लिए शव को पटरी पर लाकर रख दिया गया होगा। जीआरपी थाना प्रभारी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही युवक के मौत का राज खुलने की बात कह रहे हैं। पीएम रिपोर्ट के आधार पर ही पुलिस इस मामले की जांच करेगी।

मोबाइल से खुल सकता है मौत का राज
जीआरपी थाना प्रभारी राठिया का कहना है कि अभी पुलिस न तो परिजन का बयान दर्ज कर पाई है और न ही सही तरीके से पूछताछ हुई है। युवक के पास से दो मोबाइल मिले हैं। मोबाइल लॉक था, जिसके चलते अभी उसकी जांच नहीं हो पाई है। पुलिस को उम्मीद है मोबाइल कॉल डिटेल व तकनीकी जांच से युवक की मौत का राज खुल सकता है।

शराब दुकान तक पहुंचा डॉग
पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट के साथ ही डॉग स्क्वॉड की भी मदद ली है। जांच के दौरान डॉग घटनास्थल से पहले प्लेटफॉर्म तक गया। इसके बाद वहां से स्टेशन से कुछ दूर स्थित शराब दुकान तक भी गया था। पुलिस शराब दुकान में लगे सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल रही है। फुटेज के जरिए राजू व उसके साथियों की जानकारी जुटाई जा सकती है।

इस वजह से हत्या की आशंका
राजू शुक्रवार की देर शाम 7 बजे दुकान बंद कर अपने दोस्तों के साथ बाहर जाने के लिए निकला था। इसके बाद वह घर नहीं लौटा। इस पर परिजन उसकी तलाश भी कर रहे थे। घटनास्थल की जांच के दौरान पुलिस को खून लगा हुआ पत्थर मिला है। वहीं पर राजू के गले पर फंदा भी लपेटा हुआ था। मौके पर शराब की शीशी वगैरह भी मिली है। इससे आशंका है कि शराब पीने के बहाने राजू को हत्यारे साथ ले गए और फिर योजनाबद्ध तरीके से उसकी हत्या कर दी।

10 दिन पहले बेटा पैदा हुआ
राजू के परिजन अलग-अलग व्यापार करते हैं। राजू की शादी हुए सात साल से भी ज्यादा समय हो गया था। लेकिन, उसकी संतान नहीं हो रही था। बताया जा रहा है कि 10-12 दिन पहले ही उसका बेटा हुआ है। इसके चलते परिवार में खुशी का माहौल था। लेकिन राजू की मौत के बाद परिवार की खुशियां मातम में बदल गई।