छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: GPM में 36 घंटे से बारिश जारी, नदी-नाले उफान पर, पेंड्रा से मरवाही और बस्तीबगरा रूट बंद, 2 दर्जन गांवों का संपर्क टूटा; 100 से ज्यादा गांवों में बिजली बाधित

पेंड्रा। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिले में 36 घंटे से बारिश का दौर जारी है। नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। कई पुलों के ऊपर से पानी बह रहा है। इसके चलते पेंड्रा से मरवाही और बस्तीबगरा रूट बंद हो गया है। वहीं दो दर्जन से ज्यादा गांवों को भी संपर्क टूट चुका है। बिजली के तार गिरने से 100 से ज्यादा गांवों में आपूर्ति बाधित हो गई है। सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को उठाना पड़ा है। सूखे की मार से झेल रहे किसानों की धान और मक्के की फसल अब बारिश ने बर्बाद कर दी है।

बम्हनी नदी उफान पर होने से मुख्यमार्ग पानी में डूब गया है। इसके चलते दो दर्जन गांवों से संपर्क टूट चुका है।

बम्हनी नदी उफान पर होने से मुख्यमार्ग पानी में डूब गया है। इसके चलते दो दर्जन गांवों से संपर्क टूट चुका है।

मंगलवार रात को हुई बारिश ने स्थिति को बिगाड़ दिया है। सभी बांध 100% पानी से भर चुके हैं। जिले की सभी नदियां उफान पर हैं। सोन नदी पर सचराटोला और चिचगोहना गांवों में बनाया गया मरवाही मार्ग पुल डूब चुका है। इस पर आवागमन पूरी तरह से बंद है। वहीं वहीं बम्हनी नदी के बढ़ने से पेंड्रा से बस्तीबगरा जाने वाला मार्ग पानी में डूबा हुआ है। इससे करीब 2 दर्जन गांवों का संपर्क टूट गया है। जिले में नदियों पर बने सभी पुल जलमग्न हो चुके हैं।

कोरजा से धनौली जाने वाले मार्ग में कोरजा में बने गुहरी नाला पर पुल से डेढ़ फीट ऊपर पानी बह रहा है।

कोरजा से धनौली जाने वाले मार्ग में कोरजा में बने गुहरी नाला पर पुल से डेढ़ फीट ऊपर पानी बह रहा है।

सभी नदियां उफान पर होने से हर रास्ते हुए जलमग्न
जिले की सोनभद्र नदी अपने विकराल रूप में है। चिचगोहना गांव में बना विशाल पुल हुआ जलमग्न हो चुका है। अरपा नदी का पानी बढ़ने से खोडरी और खोंगसरा के कई स्थानों पर सड़कें डूबी हुई हैं। यहां आवाजाही पूरी तरह से बाधित है। बारिश के कारण करीब 100 से अधिक गांवों में बिजली भी गुल है। राहत की बात यह है कि अब तक कहीं से भी जनहानि की सूचना नहीं मिली है। प्रशासन की ओर से लोगों की सुरक्षा-व्यवस्था का प्रयास किया जा रहा है।

शहरी इलाकों में भी स्थिति खराब है। जिला सबसे पुराना जनपद स्कूल प्रांगण में पानी से भर गया।

शहरी इलाकों में भी स्थिति खराब है। जिला सबसे पुराना जनपद स्कूल प्रांगण में पानी से भर गया।

पानी में डूबा स्कूल, कोरबा मार्ग पर गिरा पेड़ और बिजली तार
पिपरिया गांव में एलान नदी के उफान में होने के कारण खेतों में लगी धान और मक्का की फसल बर्बाद हो गई है। गौरेला से सटे कोरजा गांव में भी तिपान नदी का जलस्तर बढ़ने से मुख्यमार्ग में बना पुल डूब गया है। कोटखर्रा गांव में धान की फसल को नुकसान हुआ है। शहरी इलाकों में भी स्थिति खराब है। जिला सबसे पुराना जनपद स्कूल प्रांगण में पानी से भर गया। पेंड्रा से मनेन्द्रगढ़ और कोरबा को जाने वाले मार्ग पर पेड़ व बिजली का तार गिरने से आवाजाही बाधित है।

जिले में बने 10 डैम 100% से ज्यादा पानी से लबालब भर चुके हैं। इनमें से 3 का गेट खोल दिया गया है।

जिले में बने 10 डैम 100% से ज्यादा पानी से लबालब भर चुके हैं। इनमें से 3 का गेट खोल दिया गया है।

सभी डैम 100% भरे, 3 के गेट खोले गए
जिले में बने 10 जलाशय 100% से ज्यादा पानी से लबालब भर चुके हैं। इनमें से 3 का गेट खोल दिया गया है। इसमें मल्हनिया, खुदरी और सोनाकछार डैम शामिल है। खुदरी को तो डैम की सुरक्षा को देखते हुए खोलने का निर्णय लिया गया है। मौसम विभाग की ओर से 24 घंटे के दौरान अभी और बारिश की चेतावनी जारी की गई है। इसके बाद कलेक्टर नम्रता गांधी ने लोगों को उफनते नदी- नालों को पार नहीं करने की अपील की है।

पेंड्रा में कल्याणका स्कूल के आगे पानी भर गया है। घुटने तक पानी होने से रास्ता बंद है। इस दौरान एक बस को निकालता चालक।

पेंड्रा में कल्याणका स्कूल के आगे पानी भर गया है। घुटने तक पानी होने से रास्ता बंद है। इस दौरान एक बस को निकालता चालक।