छत्तीसगढ़

अच्छी खबर! अमेरिका से पहले भारत को मिल जाएगा नोवावैक्‍स का टीका, कोरोना के खिलाफ 90 प्रतिशत असरदार

नईदिल्ली I काेरोना के खिलाफ जारी जंग में भारत के हाथ मजबूत होते दिखाई दे रहे हैं। देश काे जल्द और वैक्सीन मिलने जा रही है, जिसमें एक नाम है नोवावैक्‍स का। माना जा रहा है नोवावैक्‍स अमेरिका से पहले भारत में लॉन्‍च कर दी जाएगी।  देश में अभी तीन वैक्सीन उपलब्ध हैं, जिसमें दो मेड इन इंडिया  कोविशील्ड और कोवैक्सीन है और तीसरी  ​रूस की स्पुतनिक वैक्सीन है।

20 करोड़ डोज उपलब्ध होेने की उम्मीद
 कोरोना वैक्‍सीन का उत्‍पादन कर रही सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) नोवावैक्‍स की मैनुफैक्‍चरिंग पार्टनर होगी।  भारत आने पर इसका नाम  ‘कोवावैक्‍स’ होगा।  फिलहाल SII इस वैक्‍सीन का 18 साल से ज्‍यादा उम्र के लोगों पर ट्रायल कर रही है। ऐसे में उम्मीद है कि नोवावैक्‍स की वैक्‍सीन को सबसे पहले भारत में इमर्जेंसी अप्रूवल मिल सकता है। भारत सरकार के अनुमान के मुताबिक सितंबर से दिसंबर महीने तक नोवावैक्स के 20 करोड़ डोज उपलब्ध हो सकते हैं। यह संख्या और बढ़ सकती है।


कोविड-19 के खिलाफ अत्याधिक प्रभावी नोवावैक्स 
वहीं नोवावैक्स ने दावा किया है कि उसका टीका कोविड-19 के खिलाफ अत्याधिक प्रभावी है और यह वायरस के सभी स्वरूपों के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है। कंपनी ने कहा कि टीका कुल मिलाकर करीब 90 फीसदी असरदार है और शुरुआती आंकड़ें बताते हैं कि यह सुरक्षित है। हालांकि अमेरिका में कोविड-19 रोधी टीकों की मांग में कमी आई है, लेकिन दुनिया भर में अधिक टीकों की जरूरत बनी हुई है।

एक महीने में 10 करोड़ खुराकों का होगा उत्पादन
​नोवावैक्स टीके को रखना और ले जाने आसान है और उम्मीद की जा रही है कि यह विकासशील देशों में टीके की आपूर्ति को बढ़ाने में अहम किरदार निभाएगा। कंपनी ने कहा कि उसकी योजना सितंबर अंत तक अमेरिका, यूरोप और अन्य जगहों पर टीके के इस्तेमाल के लिए मंजूरी लेने की है और तबतक वह एक महीने में 10 करोड़ खुराकों का उत्पादन करने में सक्षम होगी।