छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: महिलाओं की फेक ID से वीडियो कॉल पर हो रही अश्लीलता, SP बोले- इसके बाद ब्लैकमेल कर मांगे जाते हैं रूपए, डरे नहीं शिकायत करें

छत्तीसगढ़ में अब साइबर अपराधी अलग-अलग तरीके से ठगी कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar

छत्तीसगढ़ में साइबर क्राइम के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। लेकिन अब इस तरह के अपराधियों ने ठगी करने का तरीका बदला है। इन दिनों किसी और के नाम से सोशल मीडिया में फेक आईडी बनाकर लोगों से पैसा मांगने की बहुत सी शिकायतें आ रहीं हैं। इस बात की जानकारी IPS अधिकारी और रायगढ़ जिले के एसपी संतोष सिंह ने एक बातचीत में दी है। उन्होंने बताया है कि अभी तक वारदात का तरीका जो लगातार सामने आ रहा है, वे ये है कि किसी की फेसबुक पर फेक आईडी बनाकर दूसरे लोगों से अश्लील चैट कर उसका स्क्रीनशॉट लेकर ब्लैकमेल करना है। इससे लोग डरकर पैसे की मांग पूरी करने लगते हैं और अपराधी के ट्रैप में फंस जाते हैं।

एसपी ने बताया कि साइबर क्राइम में लगातार नए तरीके के केस सामने आ रहे हैं। जिसमें किसी के पास वॉट्सऐप पर अनजान नंबर से वीडियो कॉल आता है, वो फोन रिसीव करता है और दूसरी तरफ से किसी महिला या पुरुष का न्यूड वीडियो दिखता है। इसके बाद अपराधी एक स्क्रीन रिकॉर्डिंग वीडियो भेजकर ब्लैकमेल कर पैसे मांगने लगता है। इस तरह के वीडियो देखकर कोई भी गलत मेसेज निकाल सकता है। घबराहट में कई लोग उस अपराधी के खाते में पैसे डाल देते हैं और फिर फंसते चले जाते हैं।

एसपी संतोष सिंह ने लोगों से अपील की है कि इस तरह की घटना होने पर, आप डरें नहीं, तुरंत पुलिस से शिकायत करें।

एसपी संतोष सिंह ने लोगों से अपील की है कि इस तरह की घटना होने पर, आप डरें नहीं, तुरंत पुलिस से शिकायत करें।

एक और तरीका, जिससे लोग हो रहे ठगी का शिकार

संतोष सिंह ने बताया है कि इसी तरह से किसी की फोटो को अपने वॉट्सऐप की डीपी बनाकर दूसरे लोगों से अश्लील चैट कर ब्लैकमेल करने की घटनाएं भी लगातार सामने आ रही हैं। ऐसे में आपको डरना नहीं है, और इन अपराधियों के झांसे में नहीं आना है, इसकी रिपोर्ट तुरंत पुलिस से करें।

इससे बचना कैसे है?

संतोष सिंह ने बताया है कि आपके साथ या किसी भी परिचित के साथ ऐसा होने पर तुरंत पुलिस को सूचना दें और दूसरों को भी सावधान करें। ट्र-कॉलर जैसे एप भी फ्रॉड नम्बर नाम से सेव करें ताकि दूसरे भी सावधानी रखें। अपरिचित से वीडियो कॉल अवॉयड करें, और अगर आपने गलती नहीं की है तो बिलकुल भी नहीं डरें।जागरूकता सबसे बड़ा बचाव है।

जिसी किसी शख्स को आप जानते नहीं हैं, उससे बातचीत करन से बचें, और उनकी पड़ताल किए बिना कोई भी महत्वपूर्ण जानकारी शेयर नहीं करें।

जिस किसी शख्स को आप जानते नहीं हैं, उससे बातचीत करनेसे बचें, और उनकी पड़ताल किए बिना कोई भी महत्वपूर्ण जानकारी शेयर नहीं करें।

यहां कर सकते हैं शिकायत

अगर आपके या किसी परिचित के साथ इस तरह का कोई अपराध होता है तो आप तुरंत अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में इसकी शिकायत करें। इसके अलावा आप छत्तीसगढ़ पुलिस की वेबसाइट www.cgpolice.gov.in/ में जाकर शिकायत कर सकते हैं। इसके अलावा गृह मंत्रालय के वेबसाइट नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। यदि किसी महिला या किसी बच्चे के साथ यदि इस तरह का कोई अपराध हो तो तुरंत आप 155260 पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

साइबर फ्रॉड क्या है?

साइबर अपराध विभिन्न रूपों में किए जाते हैं। इसमें खासकर कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से इस तरह के अपराध को अंजाम दिया जाता है। जिसमें किसी की पर्सनल जानकारी, गोपनीय व्यावसायिक जानकारी, सरकारी जानकारी को अपराधी चुराकर लोगों को ब्लैकमेल करते हैं। आज कल इसी इंटरनेट के माध्यम से ठग नए-नए तरीके से फ्रॉड कर रहे हैं।

पुलिस चला रही अभियान

इस तरह के अपराध से बचने रायपुर पुलिस के द्वारा अभियान भी चलाया जा रहा है। रायपुर पुलिस लोगों को जागरूक करने के लिए संगवारी अभियान चला रही है। जिसके तहत आम लोगों को इंटरनेट मीडिया फेसबुक, वाट्सएप, ट्वीटर और अन्य किसी एप उपयोग सावधानी से इस्तेमाल करने की जानकारी दी जा रही है। इतना ही नहीं पुलिस फ्रॉड कॉल से बचने की भी अपील कर रही है। जिससे इस तरह के अपराध से बचा जा सके। इसके अलावा प्रदेश भर क जिलों में भी पुलिस अभियान चला रही है।