छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: गाइड लेकर आंसर लिख रहे 12वीं के स्टूडेंट, पूरे सही जवाब दिए तो मिलेंगे 100 में से 100, शिक्षा मंत्री बोले- कम से कम लिख तो रहे हैं स्टूडेंट्स

रायपुर के रायपुरा इलाके की एक स्टूडेंट। - Dainik Bhaskar

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल 12वीं की परीक्षा ले रहा है। इस बार एग्जाम फ्रॉम होम की तर्ज पर परीक्षा हो रही है। क्वैश्चन पेपर और आंसरशीट घर ले जा चुके बच्चे देखकर सही जवाब लिख रहे हैं। ज्यादातर स्टूडेंट आंसर लिखने गाइड (कुंजी) लेकर बैठ गए हैं। सवालों के जवाब हू ब हू आंसरशीट पर उतारे जा रहे हैं। इतना ही नहीं स्टूडेंट्स कुछ के जवाब इंटरनेट से भी देख रहे हैं।

रायपुर के डीडी नगर इलाके का स्टूडेंट।

छत्तीसगढ़ के कुछ यूट्यूब चैनलों ने भी जवाब अपलोड किए हैं। सभी विषयों के जवाब आंसर शीट पर 5 दिनों में लिखने हैं। जिन बच्चों ने 1 जून को पेपर लिया था वो 6 जून काे इसे जमा करेंगे। क्वैश्चन पेपर 5 जून शनिवार तक बांटे गए हैं। आखिरी दिन पेपर घर ले गए बच्चों को भी 5 दिनों का वक्त मिलेगा।

कोरोना से पहले इसे नकल कहा जाता था अब एग्जाम फ्रॉम होम
मार्च साल 2020 में कोरोना वायरस छत्तीसगढ़ में आया। तब से स्कूल लगभग बंद ही हैं। इससे पहले परीक्षाएं सामान्य तरीके से हो रही थीं। अब एग्जाम फ्रॉम होम या परीक्षा कैंसल कर बच्चों को पास करने का कॉन्सेप्ट अपनाना पड़ रहा है। घर पर एग्जाम देने की आजादी को स्टूडेंट सीधे नकल करने से जोड़कर देख रहे हैं, बिना किसी चिंता के किताबों से जवाब देखकर लिख रहे हैं। साल 2020 के पहले ऐसा करते पाए जाने पर स्टूडेंट्स को फेल कर दिया जाता था।

बड़े आराम से जवाब आंसरशीट में उतारे जा रहे हैं।

शिक्षा मंत्री बोले- बिना परीक्षा लिए पास कर देने से तो ठीक ही है
शिक्षा मंत्री प्रेम साय सिंह टेकाम से एग्जाम कम चीटिंग से आंसर लिखने की प्रक्रिया पर कहा-

बच्चे देखकर आंसर लिख रहे हैं क्या इससे नकल को बढ़ावा नहीं मिल रहा ?
-और जो परीक्षा लिए बिना ही पास कर रहे हैं उसका क्या, अरे भई कम से कम बच्चे लिख तो रहे हैं,इससे उनकी कुछ तो पढ़ाई होगी। कम से कम लिखकर परीक्षा में तो शामिल हो रहे हैं बच्चे।

मुल्यांकन कैसे होगा ?
-करेंगे सही तरीके से ही होगा मूल्यांकन ।

आप इस तरह से परीक्षा लेने को सही मानते हैं ?
-यहां तो बच्चों को बिना पढ़े, बिना लिखे ही पास किया जा रहा है। हम तो परीक्षा ले रहे हैं। देखिए अगर कोई बच्चा पूरे साल पढ़ा ही नहीं है तो उसे ये भी नहीं पता होगा कौन सा चैप्टर कहां है। 5 दिन में पूरे जवाब लिखकर पेपर जमा भी करना है। कम से कम परीक्षा देने की वजह से बच्चा कुछ तो पढ़ेगा ही ।

तो मिलेंगे 100 में से 100 नंबर
-छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के मुताबिक इस बार 12वीं के मूल्यांकन का आधार आंसरशीट में लिखे जवाब को ही बनाया है, इसपर माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव वीके गोयल ने कहा कि जब हम ओपन बोर्ड एग्जाम ले रहे हैं तो अंडरस्टूड है कि बच्चे देखकर लिखेंगे।

गोयल ने कहा कि जो जवाब आंसरशीट पर बच्चा लिखेगा उसे उसके आधार पर नंबर मिलेंगे। जब पूछा कि- ज्यादातर बच्चे को चीटिंग करके जवाब लिख रहे हैं, ऐसे में तो वो 100 में 100 नंबर भी हासिल कर सकते, पूरे सही जवाब लिखकर ? गोयल ने कहा हमने मूल्यांकन का नियम नहीं बदला है जैसा जवाब आंसरशीट में होगा नंबर दिए जाएंगे।

इस प्रक्रिया में वे बच्चे ज्यादा नंबर हासिल कर सकते हैं जिनकी पूरे साल कोई तैयारी नहीं थी।