छत्तीसगढ़

बालको ने ग्रामीण महिलाओं के लिए आयोजित किया माहवारी स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम

कोरबा। विश्व माहवारी स्वास्थ्य एवं स्वच्छता दिवस के अवसर पर भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने वर्चुअल प्रशिक्षण एवं जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया। स्थानीय समुदाय की लगभग 300 महिलाओं के अलावा बालको कर्मचारियों ने कार्यक्रम में भागीदारी की। चिकित्सा विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों को माहवारी स्वच्छता एवं स्वास्थ्य के अनेक आयामों से परिचित कराया। प्रतिभागियों ने स्वास्थ्य संबंधी अनेक प्रश्न पूछे जिनका समाधान विशेषज्ञों ने किया।

बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक श्री अभिजीत पति ने कहा कि बालको अपने सामुदायिक उत्तरदायित्व कार्यक्रमों के अंतर्गत महिलाओं के लिए रचनात्मक वातावरण विकसित करने की दिशा में कार्यरत है। बालको संचालित माहवारी स्वास्थ्य जागरूकता परियोजना से कोरबा तथा ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं स्वास्थ्य के प्रति सजग हो रही हैं। श्री पति ने महिलाओं को उत्तम स्वास्थ्य और उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने महिला स्वास्थ्य एवं जागरूकता के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने वाली स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया।

ग्राम भदारापारा की स्वास्थ्य कार्यकर्ता श्रीमती गिरिजा सारथी ने कहा कि स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के प्रति जागरूकता की दिशा में बालको संचालित कार्यक्रम उत्कृष्ट हैं। बालको के विविध आयोजनों के जरिए महिलाओं को मासिक चक्र, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता संबंधी अनेक महत्वपूर्ण जानकारियां दी जा रही हैं। महिला स्वास्थ्य के क्षेत्र में हरसंभव मदद के लिए बालको प्रबंधन साधुवाद का पात्र है।

महिला स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्यरत सामाजिक कार्यकर्ता एवं जागरूकता सत्र के विषय विशेषज्ञ श्री ओमप्रकाश गायरी ने कहा कि माहवारी स्वास्थ्य एवं स्वच्छता नियमों की जानकारी महिलाओं के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने महिलाओं की मासिक चक्र संबंधी अनेक भ्रांतियों को दूर करते हुए जिज्ञासाओं का समाधान किया। उन्होंने प्रतिभागियों का आह्वान करते हुए कहा कि वे अपनी पुत्रियों और किशोरी बालिकाओं को माहवारी संबंधी पूरी और सही जानकारी दें। आवश्यकता होने पर चिकित्सकों से संपर्क करें।

वेदांता समूह की कंपनी बालको की ओर से शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलंबन, आधारभूत संरचना विकास, महिला सशक्तिकरण, जैव-निवेश, आजीविका आदि क्षेत्रों में परियोजनाएं क्रियान्वित हैं। परियोजनाओं के दायरे में छत्तीसगढ़ के लगभग 1.50 लाख जरूरतमंद शामिल हैं। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण बदलते सामाजिक परिदृश्य में जरूरतमंद समुदायों की मदद और उन्हें स्वास्थ्य संबंधी सुविधाएं मुहैया कराने की दिशा में बालको ने जिला प्रशासन के समन्वयन में विभिन्न कार्यक्रम संचालित किए हैं।