छत्तीसगढ़

एंटीलिया मामला: मनसुख हिरेन मौत मामले में एटीएस ने दर्ज की साजिश-हत्या की एफआईआर


महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने रविवार को एक अहम जानकारी दी है। दरअसल, एटीएस ने बताया कि उसने कथित आपराधिक साजिश, हत्या, और मनसुख हिरेन की मौत के मामले में सबूत नष्ट करने की प्राथमिकी दर्ज की है। 

मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर मिली स्कॉर्पियो के मालिक और ठाणे के व्यापारी मनसुख हिरेन की मौत की गुत्थी उलझती ही जा रही है। शुक्रवार को मनसुख हिरेन का शव संदिग्ध अवस्था में ठाणे की खाड़ी में मिला था।

पुलिस का कहना है कि मामला आत्महत्या का लग रहा है। वहीं उनके परिवार ने उनकी हत्या का आरोप लगाया। महाराष्ट्र सरकार ने मनसुख की मौत के मामले की जांच एटीएस से कराने का फैसला लिया है। उधर, ठाणे के जोन-1 डीएसपी अविनाश अंबुरे ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट हिरेन के परिवार वालों को सौंप दी गई है।

मनसुख के परिवार ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मनसुख हिरेन को मार कर डुबाया गया है।मनसुख के परिजनों के मुताबिक, मनसुख की लास्ट मोबाइल लोकेशन पालघर जिले का विरार इलाका था, जबकि उनका शव ठाणे की खाड़ी में मिला। दोनों लोकेशन में इतना अंतर कैसे हो सकता है।

परिवार का आरोप है कि यह बड़ी साजिश है। मनसुख के पड़ोसियों ने भी बताया कि वो सोसायटी के बच्चों को तैरना सिखाते थे, पानी में नहीं डूब सकते। बता दें कि मनसुख हिरेन गुरुवार से गायब थे। परिवार के लोग शुक्रवार को थाने में शिकायत दर्ज कराने पहुंचे थे। तभी थाने में खबर आई कि ठाणे की खाड़ी में एक शव मिला है, जो पानी में फूल गया था। पुलिस उनके परिवार को लेकर वहां पहुंची और शव की शिनाख्त कराई गई।

गौरतलब है कि मुंब्रा खाड़ी से जब मनसुख का शव निकाला गया तो वह मास्क पहने हुए थे और मास्क के अंदर छह-सात रुमाल ठूंसे हुए मिले। इससे हत्या की आशंका जताई जा रही है। जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शरीर पर किसी भी तरह का जख्म का उल्लेख नहीं है।

प्राथमिक रिपोर्ट में पानी में डूबने से मौत होने की बात कही गई है। वहीं, एटीएस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।