छत्तीसगढ़

पाटन हत्याकांड: मृतक का भाई बोला- उसने कहा था पूरे परिवार को खत्म करके मर जाउंगा, महिला सूदखोर की वजह से था परेशान

पुलिस ने मृतक के रिश्तेदारों और गांव के दूसरे लोगों के बयान लिए। मुख्यमंत्री खुद इस पूरे मामले में हर पल के अपडेट अफसरों से ले रहे हैं। - Dainik Bhaskar

भिलाई। दुर्ग जिले के बठेना गांव में शनिवार को एक ही परिवार के 5 लोगों के मौत की खबर आई थी। रविवार को दिनभर पुलिस और फॉरेंसिक एक्सपर्ट इस कांड से जुड़े अहम सुराग जुटाते नज़र आए । मृतक के परिवार वालों से पूछताछ होती रही और गांव वालों से भी पुलिस की टीम में हर पहलू पर जानकारी जुटाने की कोशिश की।

फॉरेंसिक टीम को जली हुई हड्डियां मिली हैं, इसे जांच के लिए लैब में भेजा गया है।

फॉरेंसिक टीम को जली हुई हड्डियां मिली हैं, इसे जांच के लिए लैब में भेजा गया है।

भाई ने किए अहम खुलासे
मृतक रामबृज गायकवाड़ के भाई नील सिंह ने बताया कि पिछले कुछ सालों में करीब 12 एकड़ जमीन बेचकर उसके भाई ने अलग-अलग लोगों के लगभग 20 लाख रुपए लौटाए। रामबृज गायकवाड़ ने एक महिला सूदखोर से भी 3 लाख रुपए का कर्ज ले रखा था। ये महिला उसे परेशान कर रही थी। रामबृज ने मुझ से दो दिन पहले कहा था कि पूरे परिवार को खत्म करके किसी दिन खुदकुशी कर लूंगा। तब मैंने उसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया था। रामबृज से भी कुछ लोगों ने रुपए उधार लिए थे जो वो लौटा नहीं रहे थे, और शनिवार को इस तरह पूरे परिवार की मौत की खबर ने घर वालों पर दुखों का पहाड़ तोड़ दिया।

पिता पुत्र का शव इसी तरह लटका मिला था।

पिता पुत्र का शव इसी तरह लटका मिला था।

5 पेज का सुसाइड नोट छोड़कर पूरा परिवार हुआ खत्म
रामबृज गायकवाड़ का शव इसके बेटे 24 साल के संजू गायकवाड़ के साथ लटका मिला। रामबृज की पत्नी जानकी बाई और इसकी दो बेटियां 28 साल की दुर्गा और 21 साल की ज्योति का शव घर से कुछ दूरी पर पैरावट में जलता हुआ बरामद किया गया। जब पुलिस ने इनके घर की जांच की तो करीब पांच पेज के सुसाइड नोट मिला। इसके अंत में परिवार से माफी मांगते हुए लिखा गया है, कि अब दुनिया से अलविदा होने का समय आ गया है। आप लोग खुश रहना। जिसकी जो देनदारी मुझ पर निकल रही है, मेरे हिस्से की संपत्ति बेचकर उसे दे दी जाए। स्थानीय लोगों का कहना है कि सुसाइड नोट में कुछ लोगों के नाम हैं, वो बड़े सूदखोर हैं। ये अवैध ब्याज का धंधा करते हैं। रसूखदार होने के कारण पुलिस इन्हें बचाने का प्रयास कर रही है।

पूरे गांव में पुलिस अफसरों की आवाजाही बनी हुई है।

पूरे गांव में पुलिस अफसरों की आवाजाही बनी हुई है।

पत्नी और बेटियों को जहर देकर मारा
अब तक हुई जांच में पुलिस सूत्रों के मुताबिक रामबृज ने पहले खाने में जहर मिलाकर पत्नी और बेटियों को खिला दिया होगा । जब उनकी मौत हुई तो इनकी लाशों को अर्थी में सजाया। अर्थी से शवों को तार के जरिए बांधा और फिर कंडे और पैरावत की मदद से उसे जला दिया । पुलिस के मुताबिक इस घटना में मृतक का बेटा भी साथ था अपनी मां और बहनों को जलाने के बाद उसने भी पिता के साथ फांसी लगा ली। हालांकि इस पूरे घटनाक्रम को परिवार के पांचों सदस्यों की हत्या के एंगल से जोड़कर भी देखा जा रहा है, फिलहाल पुलिस की छानबीन जारी है।

दिनभर चली पूछताछ
पुलिस ने सबसे पहले मृतक रामबृज और उसके बेटे का शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा था दोपहर के बाद जब हॉस्पिटल से शव लौटाए गए तो फिर परिजनों ने उनका अंतिम संस्कार किया । रामबृज के चाचा के बेटे ने उसे मुखाग्नि दी। पारिवारिक परंपरा के मुताबिक रामबृज और उसके बेटे का शव एक ही अर्थी में रख कर ले जाया गया था। अंमित संस्कार में मुखाग्नी देने से रामबृज के भाई ने इंकार कर दिया था।

रात के वक्त भी पुलिस घटना स्थल पर डेरा जमाए हुए है।

रात के वक्त भी पुलिस घटना स्थल पर डेरा जमाए हुए है।

दूसरी तरफ फॉरेंसिक और स्थानीय पुलिस की टीम दिनभर घर की तलाशी लेती रही। तमाम दस्तावेजों की जांच की गई। मृतक के परिजन और गांव के आसपास के लोगों से भी पूछताछ होती रही। अब तक इस पूरे केस में कुछ सूदखोरों के नाम भी सामने आए हैं जिनसे रामबृज ने रुपए उधार लिए थे । यह बात भी साफ हुई है कि सूदखोर लगातार रामराज पर दबाव बना रहे थे।

इस घटना के बाद बठेना गांव के आस-पास के इलाकों में पुलिस मुस्तैद हो चुकी है।

इस घटना के बाद बठेना गांव के आस-पास के इलाकों में पुलिस मुस्तैद हो चुकी है।

जुआरी बेटे की वजह से बढ़ा कर्ज, खेती के लिए भी लिए थे 54 हजार
परिवार के कुछ लोगों और ग्रामीणों ने बताया कि मृतक का बेटा संजू सब्जी बेचने का काम करता था । उसे जुआ खेलने की लत थी। आए दिन वह घर के रुपए जुए में हार जाता था । बेटे पर बढ़े कर्ज की वजह से पिता रामबृज ने लोगों से काफी उधार ले रखा था। यह बात भी सामने आई कि अपनी खेती के लिए रामबृज ने 54 हजार रुपए कर्ज पर लिए थे। भिलाई के नंदनी में रहने वाली अपनी एक बहन से उसने 2 लाख रुपए ले रखे थे, मृतक के भाई नील सिंह ने बताया कि इन कर्ज के अलावा उसे अलग-अलग लोगों से लिए 7 लाख के कर्ज की जानकारी है।

गृहमंत्री ने इंटेलीजेंस टीम को दिए निर्देश
यह पूरा कांड 24 घंटों के बाद भी सवालों के घेरे में है। यह आत्महत्या का मामला है या हत्या का कोई भी अधिकारी फिलहाल कुछ भी कहने से बच रहा है। अब इस मामले में छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने इंटेलिजेंस टीम को एक्टिव कर दिया है। पूरे मामले की इंटेलिजेंस जांच के निर्देश दिए गए हैं। गृहमंत्री ने इंटेलिजेंस के IG और दुर्ग के SP से फोन पर बात करते हुए इस मामले की जांच जल्द पूरी कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।