छत्तीसगढ़

‘निवार’ के बाद एक और चक्रवाती तूफान का खतरा, चार राज्यों के लिए चेतावनी जारी


तमिलनाडु में बीते हफ्ते चक्रवाती तूफान निवार ने अच्छी खासी तबाही मचाई थी। लोग इससे उबर भी नहीं पाए थे कि अब एक और आफत आने वाली है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को तमिलनाडु में चक्रवाती तूफान निवार के दस्तक देने के बाद एक सप्ताह से कम समय के अंदर दक्षिणी हिस्से में एक और तूफान के आने की आशंका जताई है। इसके साथ ही विभाग ने चार राज्यों के लिए चेतावनी भी जारी की है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने आशंका जताई है कि अगले चार दिनों में तमिलनाडु के अलावा पुडुचेरी, केरल और आंध्र प्रदेश के तटीय हिस्सों में भारी बारिश हो सकती है।
तटीय इलाकों के लिए अलर्ट जारी मौसम विभाग ने कहा कि यह तूफान दो दिसंबर को श्रीलंका के समुद्र तट को पार करेगा और इससे तमिलनाडु तथा केरल में भारी बारिश होने का पूर्वानुमान है। आईएमडी ने संभावित तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और केरल के दक्षिणी इलाकों में ‘रेड-कलर कोडेड’ चेतावनी जारी की है।मौसम विभाग ने भारी बारिश आने की आशंका को देखते हुए अलग-अलग अलर्ट जारी किया है। इडुक्की के लिए रेड अलर्ट और तिरुवनंतपुरम व कोल्लम जिले के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इसके अलावा अलाप्पुझा, कोट्टायम और एर्नाकुलम जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है।

मछुआरों को समुद्र से लौटने की सलाह दी


आईएमडी ने कहा है कि इन क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। इस दौरान मछुआरों को एक दिसंबर की रात से दक्षिण पूर्व तथा पास के लगे दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में तथा दो दिसंबर से अगले 24 घंटे के लिए पूर्वी श्रीलंका के तटीय क्षेत्रों, कोमोरिन क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी और तमिलनाडु-केरल के तटों के पास नहीं जाने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग ने कहा कि जो लोग समुद्र में गए हैं, उन्हें 30 नवंबर तक तटों पर लौटने की सलाह दी जाती है।


बंगाल की खाड़ी में बन रहा है कम दबाव का क्षेत्र

आईएमडी के अनुसार, बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। आईएमडी ने कहा कि इसके अगले 24 घंटे में और गहरे दबाव में बदलने की संभावना है। यह चक्रवाती तूफान का आकार भी ले सकता है। आईएमडी के चक्रवात चेतावनी विभाग ने कहा कि यह तूफान 2 दिसंबर को तमिलनाडु में पहुंच सकता है। यह तीन दिसंबर की सुबह करीब के पश्चिमी इलाकों की ओर बढ़ सकता है और उसके बाद कोमोरिन क्षेत्र में पहुंच सकता है।इसके चलते तमिलनाडु, पुदुच्चेरी और कराइकल में 3 दिसंबर तक भारी बारिश हो सकती है।

बता दें कि पिछले सप्ताह ‘बहुत भीषण चक्रवाती तूफान’ निवार तमिलनाडु के तट से टकराया था। राज्य में सुरक्षा उपायों के तहत करीब ढाई लाख लोगों को आश्रय शिविरों में ठहराया गया। तूफान से किसी की जान जाने की कोई खबर नहीं है।