छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: पुलिस कस्टडी में जूनियर इंजीनियर की मौत, परिजनों ने पुलिस पर लगाया हत्या का आरोप

Breaking News: पुलिस कस्टडी में हत्या के संदेही जूनियर इंजीनियर की मौत! पिटाई के बाद पुलिस ले गई थी अस्पताल

अंबिकापुर। छत्तीसगढ़ में पुलिस हिरासत में संदेहियों की मौत का सिलसिला नहीं रुक रहा है। इसी कड़ी में युवक के हत्या के संदेह में पुलिस ने विद्युत विभाग में पदस्थ एक जूनियर इंजीनियर को सोमवार को हिरासत में लिया था।

परिजनों का कहना है कि रात में पुलिस ने उसकी पिटाई की। जब उसकी तबियत बिगड़ गई तो अस्पताल ले गए। यहां इलाज के दौरान आज सुबह करीब 6.30 बजे उसकी मौत हो गई। इस मामले में मृतक के परिजनों ने पुलिस की पिटाई से मौत का आरोप लगाया है।

दरअसल सूरजपुर जिले के लटोरी चौकी अंतर्गत ग्राम करवां के विद्युत सब स्टेशन परिसर में सोमवार की सुबह एक युवक की बीच सडक़ पर नग्न अवस्था में लाश मिली थी। वह रविवार की शाम से लापता था। उसके शरीर पर चोट के निशान मिले थे। इस मामले में जूनियर इंजीनियर सस्पेक्टेड था।

लटोरी चौकी अंतर्गत ग्राम गजाधरपुर निवासी 24 वर्षीय हरिशचंद्र पिता धनेश्वर रविवार की शाम लगभग 5.30 बजे घर से निकला, लेकिन वापस नहीं लौटा। सोमवार की सुबह ग्राम करवां विद्युत सब स्टेशन परिसर में सडक़ पर उसकी नग्न अवस्था में लाश मिलने से सनसनी फैल गई थी।

घटनास्थल पर ग्रामीणों व विद्युत कर्मियों की भीड़ लग गई थी। इसकी सूचना मिलने पर लटोरी चौकी प्रभारी सुनील सिंह दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे थे। मृतक के शरीर पर चोट के निशान मिलने से प्रथमदृष्ट्या हत्या के एंगल से जांच शुरु की गई थी।

इस मामले में पुलिस ने विद्युत विभाग में पदस्थ बालोद निवासी एक जूनियर इंजीनियर पूनम कतलम 40 वर्ष को हिरासत में संदेह के आधार पर लिया था।

रात में अचानक तबियत बिगडऩे पर उसे लटोरी स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया। यहां मंगलवार की सुबह करीब 6.30 बजे उसकी मौत हो गई। जूनियर इंजीनियर करवां विद्युत सब-स्टेशन में पदस्थ था।

परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
पुलिस हिरासत में जूनियर इंजीनियर की मौत के मामले में परिजनों ने पुलिस पर हत्या का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि पुलिस ने कस्टडी में उसकी बेदम पिटाई की थी।

जब उसकी तबियत बिगड़ गई तो अस्पताल ले गए लेकिन यहां उसकी जान नहीं बच सकी। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही और बातें स्पष्ट हो सकेंगीं।


चौकी प्रभारी बोले- हमने कस्टडी में नहीं लिया
इधर लटोरी चौकी प्रभारी सुनील सिंह का कहना है कि युवक की हत्या के संदेह में सब स्टेशन से मृतक पूनम कतलम को चौकी ले जा रहे थे, इसी दौरान उसने रास्ते में घबराहट होने की बात कही तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस दौरान उसने परिजनों से भी बात की है, उस दौरान स्वास्थ्य अच्छा था।

चौकी प्रभारी के अनुसार उन्हें लटोरी अस्पताल के डॉक्टर ने बताया कि सुबह वह बाथरूम के लिए गया और हृदयगति रुक जाने से उसकी मौत हो गई। पुलिस कस्टडी में डेथ के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमने कस्टडी में उसे लिया ही नहीं था। मृत जूनियर इंजीनियर हत्या का आरोपी था।

ग्राम गजाधरपुर निवासी जिस युवक की हत्या हुई है, उसने 4 और लोगों के साथ रविवार की रात सब स्टेशन में बैठकर शराब का सेवन किया था। नशे में ये आपस में लड़े और हरिशचंद्र की पिटाई की थी। इस दौरान 2 संदेही भाग गए थे जबकि 2 पावर हाउस में ही रुके थे। घटना के बाद सोमवार की सुबह हरिशचंद्र की लाश पाई गई थी।


कस्टडी में नहीं हुई डेथ- एसपी
इधर सूरजपुर एसपी राजेश कुकरेजा ने भी कस्टोडियल डेथ से इनकार किया है। उनका कहना है कि सब स्टेशन में जब पुलिस उसे संदेह के आधार पर पकडऩे गई तो जूनियर इंजीनियर ने तबियत खराब होने की बात कही। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। साथ में उसका एक अटेंडर भी था।

सुबह करीब 4.30 बजे वह बाथरूम के लिए जाने लगा और वहीं गिरकर बेहोश हो गया था। जब डॉक्टर ने जांच की तो उसकी मौत हो चुकी थी, डॉक्टर ने हार्ट अटैक से मौत की बात कही है। जूनियर इंजीनियर शराब पीने का आदी था। सब स्टेशन में मारपीट के बाद उसके कपड़ों में खून भी लगे थे।