छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़: अकेलेपन ने छीन ली जिंदगी, बुजुर्ग ने चंद्रहासिनी मंदिर पुल से महानदी में लगाई छलांग, 5 घंटे बाद हो सकी पहचान

जांजगीर में बुजुर्ग ने चंद्रहासिनी मंदिर पुल से महानदी में लगाई छलांग; 5 घंटे बाद हो सकी पहचान|छत्तीसगढ़,Chhattisgarh - Dainik Bhaskar

छत्तीसगढ़ के जांजगीर में मंगलवार सुबह एक बुजुर्ग ने महानदी में कूदकर आत्महत्या कर ली। घटना के करीब 5 घंटे बाद बुजुर्ग की पहचान हो सकी। इसके बाद उनके परिजनों को सूचना दी गई है। बुजुर्ग के आत्महत्या करने का कारण अभी तक सामने नहीं आ सका है। हालांकि माना जा रहा है कि अकेलेपन से परेशान होकर उसने जान दी है। मामला चंद्रपुर थाना क्षेत्र का है। 

जानकारी के मुताबिक, सारंगढ़ के वार्ड 9 निवासी मनोज साहू (60) किराना दुकान का संचालन करते थे। रोज की तरह सोमवार रात भी दुकान बंद कर निकल गए। वहां से मनोज चंद्रपुर पहुंचे और मंगलवार सुबह करीब 9 बजे चंद्राहासिनी मंदिर पुल से महानदी में छलांग लगा दी। इस दौरान मछुआरों ने देखा तो उन्हें बाहर निकाला। वहां से डभरा अस्पताल ले गए, लेकिन मौत हो गई। 

पर्स में मिले नंबर पर कॉल करने पर हो सकी पहचान
पुलिस ने मनोज के कपड़ों की तलाशी ली तो जेब से पर्स मिला। उसमें कुछ मोबाइल नंबर थे। हालांकि पर्स भीग जाने के कारण नंबरों की पहचान मुश्किल हो रही थी। इसके बाद पुलिस ने किसी तरह उन नंबरों पर कॉल किया तो करीब 5 घंटे बाद मृतक मनोज साहू की शिनाख्त हो सकी। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। परिजनों के आने के बाद आगे की कार्रवाई पुलिस करेगी। 

दो बेटियां हैं, दोनों की शादी कर दी, अकेले रहता था बुजुर्ग
पुलिस जांच में पता चला है कि बुजुर्ग मनोज की दो बेटियां हैं। दोनों की शादी कर दी। बेटा कमाने के लिए बाहर चला गया। पत्नी बीमार रहने के कारण पिछले डेढ़ साल से मायके में ही रहती है। बुजुर्ग सारंगढ़ में अकेला रहता था और किराना दुकान संचालित करता था। बताया जा रहा है कि रात तक वह दुकान में ही था। इसके बाद दुकान बंद कर दी और चला गया। तब से कुछ पता नहीं था।