देश-विदेश

कोरोना लॉकडाउन में ड्रोन से पहुंचाया पान मसाला, हिरासत में लिए गए दो आरोपी, देखें वीडियो

कोरोना काल में नशेड़ियों पर जबर्दस्त आफत आन पड़ी है

शराब, तंबाकू, पान मसाला, गुटखा की लत वाले लोग लॉकडाउन में परेशान हैं

कुछ नशेड़ियों ने लत पूरी करने के लिए जुगाड़ निकालने शुरू कर दिए

गुजरात में एक ऐसी ही हैरतअंगेज घटना सामने आई

गुजरात के मोरबी में ड्रोन कैमरे के जरिए पान मसाला पहुंचाने के आरोप में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है। पान मसाला लेकर उड़ रहे ड्रोन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। पुलिस ने हिरासत में लिए दोनों लोगों के खिलाफ ‘महामारी अधिनियम’ के तहत केस दर्ज किया है।

लत भी किसी बीमारी से कम नहीं

दरअसल, लॉकडाउन में लोग तरह-तरह की मुश्किलों से जूझ रहे हैं। सरकार ने जरूरी वस्तुओं की दुकानें भी खुली रखने की अनुमति इसीलिए दी है ताकि लोगों की परेशानी और न बढ़ जाए। अब अलग-अलग व्यक्ति के लिए जरूरी वस्तुओं की लिस्ट भी अलग-अलग होती है। सरकार ने तो दवाइयों और खाने-पीने, दूध आदि की सुविधाएं बहाल रखी हैं, लेकिन जिनकी ‘अनिवार्य वस्तुओं की लिस्ट’ में नशे और शौक के सामान भी शामिल हैं, उनकी मुश्किलों को तो आसान नहीं ही किया जा सकता है। यही कारण है कि ‘नशेड़ियों’ ने अपनी-अपनी लत के सामानों का अलग-अलग तरीके से जुगाड़ करना भी शुरू कर दिया है।

तंबाकू, गुटखे पर सरकार का निर्देश

ध्यान रहे कि कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों से सार्वजनिक स्थानों पर चबाने वाले तंबाकू के इस्तेमाल और थूकने पर रोक लगाने को कहा है। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशाों के मुख्य सचिव को भेजे पत्र में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, ‘चबाने वाले तंबाकू, पान मसाला और सुपारी से शरीर में लार अधिक बनने लगती है और इससे थूकने की अत्याधिक इच्छा होती है। सार्वजिनक स्थानों पर थूकने से कोविड-19 के प्रसार में तेजी आ सकती है।’

ICMR ने भी दे चेतावनी

कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते खतरे के मद्देनजर भारतीय आयुर्विज्ञान चिकित्सा परिषद (आईसीएमआर) ने भी आम लोगों से चबाने वाले तंबाकू के उत्पादों के सेवन से दूर रहने और सार्वजनिक स्थानों पर नहीं थूकने की अपील की है। पत्र के मुताबिक, राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों के पास विभिन्न कानूनों के तहत कोविड-19 से निपटने के जरूरी अधिकार हैं।